Sunday, June 3, 2012

मंजिल की तलाश में

हाथों में जिंदगी का सपना लिए
निकले थे हम जहाँ में
सफर हम तय करते गए
मंजिल की तलाश में

सफर में मिले राहगुजर भी बहुत
दिल्लगी में हुई साथ उनके
दिलजले भी बहुत मिले 
मंजिल की तलाश में 

मुकाम बहुत से आये राह में 
मंज़र भी हुए बहुत अजीब से
पर हम सफर में चलते गए
मंजिल की तलाश में 

जिंदगी में जद्दोजहद हुई 
हमसफ़र की तलाश में 
सपने हमारे खाकसार हुए
मंजिल की तलाश में 

बैठ आज जब सोचते हैं हम
कि क्या पाया जिंदगी में
तो देखा की हम ख़ाक थे
और ख़ाक में मिलने को हैं

मुड कर जब देखा राह पर
जो तय की थी हमने 
मंजिल की तलाश में
हमसफ़र दिखा जिसे, छोड़ आये थे मजार पे 

मगरूर थे हम अपने सपनो में
मशरूफ थे हम अपने सफर में
ना दिखा वो हमसफ़र हमें 
नादान मंजिल की तलाश में