Saturday, February 20, 2016

कैसा है ये लोकतंत्र

कैसा है ये लोकतंत्र
कैसा है ये जनतंत्र
हैं एक मंच पर एकत्रित 
भारत विरोधी मित्र

स्वतंत्रता की अभिवक्ति का
करते हैं दुरुपयोग उस शक्ति का
करते हैं राष्ट्र विरोधी बातें
कहते हैं काली होंगी और रातें

करते हैं आपत्ति राष्ट्र ध्वज लहराने पर
लज्जित होते हैं वन्दे मातरम् बोलने पर
सर झुकाते हैं आतंकी के सम्मान में
नमन नहीं करते सैनिक के सम्मान में

राष्ट्र विरोधियों का देते हैं साथ
पढ़ते सदैव जात पात का पाठ 
हर समय देखते हैं सत्ता का स्वार्थ
राष्ट्र हित का नहीं करते परमार्थ

अन्ध्भक्त बन हम भी करते अनुसरण
नहीं समझते इसका कोई कारण
होती समाचारों में जो लीपा पोती
छुप जाती है सच्चाई नहीं हमें दिखती


1 comment:

ब्लॉग बुलेटिन said...

ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " बड़ी बी की शर्तें - ब्लॉग बुलेटिन " , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !